आम चर्चा

कहीं अमानक बीज का शिकार न हो जाए किसान,मेडिकल स्टोर से पान ठेले में बिक रहा धान बीज, कवर्धा में दो उपसंचालक मगर दोनों गहरी नींद में, अन्नदाता हो रहे परेशान

आशू चंद्रवंशी, बड़ेगौटिया/कवर्धा। कबीरधाम जिला में एक नही दो उप संचालक पदस्थ हैं बावजूद कृषि विभाग की नजरंदाज के कारण जिला मुख्यालय से ग्रामीण इलाके तक गली-गली धान बीज की दुकानें बिना लाइसेंस के खुल गई हैं। यहां किसानों को दिनदहाड़े चूना लगाया जा रहा है। अफसरों के कार्रवाई न करने से दुकानदारों के हौसले बुलंद हैं। यह दुकानदार हाइब्रिड धान बीज, ओ पी बीज , रासायनिक व कीटनाशक को दो से तीन गुने दाम में बेच रहे हैं।


बिना लाइसेंस को रहा व्यापार


कृषि विभाग से नियमतः व्यवसाय करने के लिए लायसेंस लेकर बीज, रासायनिक खाद व कीटनाशक दवाओं की आपूर्ति व बिक्री की जाती है। इसके बाद बीज दुकानदार किसानों को माल बेचते हैं। डीलर व दुकानदारों को इसकी बिक्री करने के लिए कृषि विभाग बैध लाइसेंस जारी करता है। वर्तमान में जिले की चारो विकासखण्ड में अवैध रूप से कई डीलर व दुकानदार बीज, रासायनिक खाद, कीटनाशक व कृषि संबंधी उपकरण की खुलेआम बिक्री कर रहे हैं। वनांचल , शहर हो या ग्रामीण अंचल इनकी संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। इसका खामियाजा किसानों को उठाना पड़ रहा है। अशिक्षा व जागरूकता के अभाव में बीज दुकानदार इनसे मनमर्जी रकम वसूल रहे हैं। इसकी जानकारी अफसरों को भी है लेकिन सब अनजान बने हुए हैं। सूत्र बताते हैं कि इसके बदले हर माह मोटी रकम कृषि विभाग के अधिकारियों तक पहुंचती है।

मेडिकल स्टोर , पान ठेले में धान बीज की विक्रय

जिला मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रो में बिना लाइसेंस की  अधिकारियों की मिलीभगत से मेडिकल स्टोर , पान ठेले , साप्ताहिक  बजर्रो में  धान बीज की विक्रय की जा रही  है जिस पर अंकुश नही लगाया जा रहा हैं मतलब सीधा दुकानदार से अधिकारी -कर्मचारी कमीशन लेकर उक्त कार्य को अंजाम दे रहे हैं जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है । दुकानदार किसी एक कम्पनी का शोध प्रमाण पत्र लेकर कई लोकल कम्पनी का धान बीज बेच हैं । ऐसे कम्पनी का धान बीज बेच रहा हैं जो हाइब्रिड ही नही हैं । उसके ऊपर केवल लेबल लगा हुआ है ।

प्रिंट रेट से ज्यादा दाम में बिक रही धान


अफसरों की सह पर जिले में काफी मात्रा में दुकानों पर धान का बीज पहुंच गया है। इसकी पैकेट में अधिकतम खुदरा मूल्य से अधिक दामों पर बेचा जा रहा है। हाइब्रिड धान की अधिक मांग होने व लाभ कमाने के चक्कर में किसान दो से तीन गुना दामों में बीज खरीद रहे हैं। विभागीय अफसर इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। अभी तक किसी भी दुकानदार के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई है।

अमानक हो चुकी है कई कम्पनियों के बीज

गत वर्ष कई कम्पनियों के हाइब्रिड धान अमानक हो गया था जो समय से पहले बाली आ गया था जिसके चलते किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है । जिसकी जानकारी विभागीय अधिकारी कर्मचारी को हैं फिर भी कोई ठोस कार्यवाही नही करते जो समझ से परे है ।
अन्य राज्य की बीज कबीरधाम में
छत्तीसगढ़ राज्य में डायरेक्टर के अनुमति के बगैर धान बीज का बिक्री नही किया जा सकता लेकिन कबीरधाम जिला पड़ोसी राज्य के सीमाओं से जुड़ा हुआ है रेंगाखार , झलमाल, चिल्फी सहित वनांचल के गांव के किराना दुकान और पान ठेले में ओ पी ,रिसर्च और हाइब्रिड धान को बिना लाइसेंस के बेच रहे है। जिसपर आज तक कबीरधाम जिला में कोई ठोस कार्यवाही नहीं हुई है। जिससे साबित होता है विभागीय अधिकारियों की मौन स्वीकृति और संरक्षण प्राप्त है ।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button